गाजियाबाद नामी कंपनी के एग्रीमेंट से 62 लाख की चपत

उत्तरप्रदेश : विजयनगर थाना क्षेत्र में एक नामी कंपनी से सौदा कर लखनऊ कंपनी संचालक से 62 लाख रुपये ठगने का मामला सामने आया है. पीड़ित कंपनी के संचालक का कहना है कि गाजियाबाद स्थित कंपनी के तीन साझेदारों ने उसे 76.79 लाख रुपये का काम दिलवाया, लेकिन भुगतान नहीं किया. बाद में पता चला कि आरोपी का कथित कंपनी से कोई समझौता नहीं था। पुलिस को शिकायत की चेतावनी में 15 लाख दिए, लेकिन शेष राशि मांगने पर प्रतिवादी ने धमकी देना शुरू कर दिया। पीड़िता की शिकायत पर विजयनगर पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है.

न्यू सुशांत गोल्फ सिटी आशक्त लखनऊ निवासी प्रदीप कुमार रघुवंशी का कहना है कि वह अपनी कंपनी प्रताप इंफ्राटेक के निदेशक हैं। मई 2021 में अभिषेक सिंह गौर ने उन्हें फोन किया। उन्होंने कहा कि विजयनगर थाना क्षेत्र के क्रॉसिंग रिपब्लिक स्थित जीएच-7 सोसायटी में ए-4 इंफ्रा एंड आईटी सॉल्यूशंस प्राइवेट लिमिटेड कंपनी का कार्यालय है. कंपनी की डायरेक्टर देवलीना गुप्ता हैं, जबकि वह और अभिजीत गुप्ता कंपनी में पार्टनर हैं। अभिषेक सिंह ने कहा कि उनकी कंपनी का ईसीएल कोलकाता कंपनी में सोलर वर्क है। उन्होंने अपने सामने सोलर वर्क करने का प्रस्ताव रखा। प्रदीप कुमार का कहना है कि अभिषेक उनकी कंपनी में 2012 से 2015 तक कार्यरत थे, इसलिए उन्होंने उन पर भरोसा किया और काम ठीक करने गाजियाबाद आ गए।

टैग करने की धमकी देने लगे प्रदीप कुमार रघुवंशी का कहना है कि अभिषेक सिंह ने उनकी पत्नी शालिनी सिंह के खाते से 15 लाख रुपये उनके कंपनी खाते में भेज दिए और शेष राशि एक महीने के भीतर देने को कहा. सोसायटी में जाते समय गार्ड बात करके अंदर नहीं जा सकते। संपर्क करने पर आरोपित ने धमकी देना शुरू कर दिया।