आगरा में अब ऑनलाइन टिकट से ताजमहल में मिलेगी एंट्री

दुनिया के सातवां अजूबा ताजमहल कोविड काल के बाद एक बार फिर पूरी तरह से डिजिटल होने जा रहा है। पुरातत्व विभाग टिकट प्रणाली को पूरी तरह से ऑनलाइन करने जा रहा है। इसके लिए बुकिंग का तरीका सरल करने के प्रयास शुरू कर दिए गए हैं।

पुरातत्व अधीक्षक राजकुमार पटेल द्वारा ताजमहल पर कोविड काल में संक्रमण से बचाव के लिए ऑफलाइन टिकट बंद की गयी थी। माहौल सुधरने के बाद भीड़ बढ़ने पर पूर्वी व पश्चिमी दोनों एंट्री गेटों पर सिंगल टिकट विंडो शुरू की गयी थी। ऑफलाइन टिकट मिलने से लोग ऑनलाइन की बजाए ऑफलाइन की तरफ ज्यादा रुख कर रहे हैं।

ऑफलाइन टिकट काउंटर पर भीड़ लगने से पर्यटकों को परेशानी हो रही है। इसके साथ ही लपकों का आतंक भी बढ़ गया था। लोग टिकटों की ब्लैक कर रहे थे। इसके साथ ही 4 कर्मचारियों की और अन्य खर्च भी बढ़ जाते हैं।

ऑनलाइन होगी पूरी व्यवस्था

ताजमहल में प्रवेश के लिए हो रही परेशानियों से निजात के लिए अब पुरातत्व विभाग पूरी तरह ऑनलाइन व्यव्यस्था कर रहा है। इसके लिए टेक्निकल टीम और स्टाफ के साथ बैठक की जा रही है। व्यव्यस्था सरल और सुगम करने के बाद ही इसे लागू किया जाएगा।

यूपीआई के जरिये बुक होंगे टिकट

पुरातत्व अधीक्षक आर के पटेल ने बताया ऑनलाइन वेबसाइट के साथ ऐप बनाने, नेटवर्क के लिए वाईफाई व्यवस्था और अच्छी करने पर विचार किया जा रहा है। डिजिटल प्रक्रिया की कम जानकारी वाले पर्यटकों के लिए फोन बैंकिंग जैसी व्यव्यस्था बनाने के लिए भी विचार किया जा रहा है।

पर्यटक 1 ट्रोल फ्री नम्बर पर काल कर अपने एटीम या क्रेडिट कार्ड के जरिये सुरक्षित तरीके से टिकट बुक कर पाए यह प्राथमिकता रहेगी, हालांकि अभी यह लागू होगा या नहीं इसकी पुष्टि नहीं कि जा सकती है। अभी इस पर सिर्फ विचार किया जा रहा है। व्यव्यस्था पूरी तरह चेक करने के बाद ही लागू की जाएगी।

डिजिटल बैंकिंग न कर पाने वालों को होगी परेशानी

ताजमहल पर टिकट व्यव्यस्था ऑनलाइन करने पर लोगों को परेशानी होना लाजमी है। जो लोग बैंकिंग की ज्यादा जानकारी नहीं रखते हैं या कम पढ़े लिखे हैं। ताजमहल आने वाले ऐसे पर्यटकों की संख्या भी काफी है जिनके बैंक खातों में अधिक पैसे नहीं होते हैं। ऐसे लोगों के लिए विभाग वैकल्पिक स्तर पर कुछ अलग करने पर विचार कर रहा है।