एमएलसी विजय शिवहरे ने कहा किसी व्यक्ति ने 1 लाख गज वाली बेशकीमती जमीन लीज पर कैसे दे दी

फतेहाबाद रोड पर बने सेल्फी प्वाइंट और वहां की जमीन इस समय विवादों के घेरे में हैं। लाख रुपये गज बिकने वाली जमीन को आगरा विकास प्राधिकरण द्वारा एक व्यापारी को कौड़ियों के भाव दे दी गयी है। इस मामले के खुलासे के बाद आगरा विकास प्राधिकरण में तहलका मचा हुआ है। वहीं जनप्रतिनिधियों ने भी मोर्चा खोल दिया है। एमएलसी विजय शिवहरे ने इस पूरे मामले की शिकायत मुख्यमंत्री से एक करने की बात कही है।

मुख्यमंत्री से की जाएगी शिकायत:

भाजपा एमएलसी विजय शिवहरे का कहना है कि मामला गंभीर है। किसी व्यक्ति को ₹1 लाख गज वाली जमीन कौड़ियों के भाव कैसे दी जा सकती है। सबसे बड़ी बात यह है कि जब इतनी बेशकीमती जमीन थी तो वह लीज पर देने से पहले एडीए बोर्ड की मीटिंग में उसका प्रस्ताव क्यों नहीं आया। एडीए के सदस्यों को बिना खबर किए एडीए उपाध्यक्ष ने इतना बड़ा फैसला कैसे ले लिया और एक व्यापारी को वह बेशकीमती जमीन लीज पर कैसे दे दी।

एमएलसी विजय शिवहरे का कहना है कि पर्यटन के लिए आज ऐसी वह जमीन बेशकीमती है। उसकी उपयोगिता और ज्यादा बढ़ जाती है। एडीए उपाध्यक्ष राजेंद्र पेंसिया ने यह जमीन केवल्या एक्सिम प्राइवेट लिमिटेड के मालिक को दी लेकिन उस जमीन के बदले विभाग को सिर्फ कौड़ियां मिली।

करोड़ों की बेशकीमती जमीन एडीएन है यूं ही बिना किसी को खबर बिना बोर्ड मीटिंग में प्रस्ताव पारित किए दे दी। इससे साफ जाहिर है कि इस जमीन के लेनदेन में कोई बड़ा खेल हुआ है। इसीलिए तो सारे काम गुपचुप तरीके से पूरे करा दिए गए। अब जब मामला खुला है तो एडीए में भी हड़कंप मचा हुआ है एडीए उपाध्यक्ष राजेंद्र पेंसिया सवालों के घेरे में आ गए हैं।

एमएलसी विजय शिवहरे का कहना है कि जो लोग भी इस जमीन के लीज पर दिए जाने के मामले में संलिप्त हैं, उन सभी अधिकारी और कर्मचारियों की जांच होनी चाहिए जिससे इस पूरे मामले का सच सामने आ सके।