आगरा के थाना मलपुरा पुलिस को अपहरण में चौथे जवान की तलाश, अपहरण में टैक्सी चालक की भूमिका संदिग्ध

आगरा के थाना मलपुरा के गांव अभयपुरा से हुए जीजा-साले के अपहरण में अपहृत काजिम के टैक्सी चालक चाचा अकील की भूमिका सामने आई है। वह आरपीएफ के एक मुखबिर के साथ रहता है। पुलिस की छानबीन में यह भी पता चला कि है कि अपहरण में चौथा वर्दीवाला आरपीएफएस का जवान है। अब पुलिस उसकी तलाश में लगी हुई है।

थाना मलपुरा के गांव अभयपुरा से अपहृत काजिम व इकरार के मामले में पुलिस ने मंगलवार की शाम आगरा कैंट आरपीएफ थाने में तैनात एसआई सुरेश चौधरी, आरक्षी पारुल यादव व नीरज सिंह को फिरौती लेते समय दबोचा था। पूछताछ में काजिम ने पुलिस को बताया कि पिछले दिनों उसका अपने चाचा अकील से विवाद हो गया था। अकील ने उसे सबक सिखाने की धमकी दी थी। अकील टैक्सी चालक है। उसकी आरपीएफ के मुखबिर भूरा के साथ दोस्ती है। आगरा कैंट पर आरपीएफ के लिए भूरा मुखबिरी करता है।  अकील ने उसे सबक सिखाने का ठेका भूरा को दिया। भूरा ने आरपीएफ वालों से सेटिंग की। अपहरण की रात भूरा ही पुलिस कर्मियों की गाड़ी चलाकर आया था।
डीसीपी पश्चिम जोन सत्यजीत गुप्ता ने बताया कि आरोपी आरपीएफ कर्मियों से पूछताछ की गई थी। बमुश्किल उन्होंने यह बताया कि उनका चौथ साथी आरपीएफएस में तैनात है। उसके बारे में आरपीएफ के अधिकारियों को जानकारी दी गई है। उसकी तलाश की जा रही है। जिस गाड़ी से अपहरण किया गया उसे भूरा ही चलाकर लाया था। भूरा की तलाश तेज कर दी गई है।