खाद की किल्लत: महज तीन घंटे में ही खत्म हो गई यूरिया, सुबह से लाइन में लगे थे किसान, लौटे निराश

यूरिया के लिए किसानों को खासी मशक्कत करनी पड़ रही है। सुबह से ही किसानों की भीड़ समितियों पर यूरिया पाने के लिए पहुंच रही है। गंजडुंडवारा पर सहकारी क्रय विक्रय समिति पर तीन घंटे में ही यूरिया खत्म हो गई। किसानों को वापस मायूस होकर जाना पड़ा।

परेशान हैं किसान 

रबी की फसल में यूरिया की टॉप ड्रेसिंग का समय है। गेहूं और सरसों की फसलों में यूरिया लगाने के लिए किसान परेशान हैं। यूरिया की किल्लत का सामना किसानों को करना पड़ रहा है। किसान काम काज छोड़कर सुबह से ही समितियों पर पहुंच रहे हैं। सुबह से सहकारी क्रय विक्रय समिति पर किसानों की भीड़ यूरिया पाने के लिए एकत्रित हो गई। सुबह सात बजे से यूरिया का वितरण शुरु हुआ और 10 बजे तक यूरिया का स्टॉक निल हो जाने पर वितरण को बंद कर दिया, जिसके बाद किसानों को मायूस होकर वापस जाना पड़ा। इसके अतिरिक्त क्षेत्रीय सहकारी समिति सहित अन्य समितियों पर देर शाम तक यूरिया का वितरण किया गया।

रैक में मिलेगी 1500 एमटी यूरिया

 जिला कृषि अधिकारी सुमित कुमार चौहान ने बताया कि ‘किसानों को यूरिया के लिए दिक्कतें नहीं होने दी जाएंगी। जैसे जैस यूरिया मिल रही है उनका समितियों के माध्यम से वितरण कराया जा रहा है। वितरण पर निगरानी भी रखी जा रही है, जिससे यूरिया कालाबाजारी न हो सके। शीघ्र ही 1500 एमटी (मीट्रिक टन) की एक रैक मिल रही है, जिसका समितियों के माध्यम से वितरण कराया जाएगा।’