प्रतापगढ़ में एआरटीओ को मिली फर्जी शिकायत, लिपिक का निलंबन निरस्त

उत्तरप्रदेश अपर परिवहन आयुक्त प्रशासन ने 7 जून को दिए गए एआरटीओ कार्यालय के लिपिक के निलंबन के आदेश को रद्द कर दिया. उन्होंने एआरटीओ को फर्जी शिकायत दर्ज कराने वाले के खिलाफ कार्रवाई करने का भी निर्देश दिया है. बेल्हा के एक व्यक्ति ने मुख्यमंत्री पोर्टल सहित परिवहन आयुक्त के पास शिकायत दर्ज कराई थी। जिसमें कहा गया कि एआरटीओ कार्यालय के लिपिक केके दुबे और एआरटीओ की मिलीभगत से कुछ ट्रकों की भार क्षमता अनियमित रूप से बढ़ाई गई है. शिकायतकर्ता ने शिकायत में उक्त ट्रकों का नंबर भी दिखाया था। इसे गंभीरता से लेते हुए अपर परिवहन आयुक्त प्रशासन नरेंद्र सिंह ने 7 जून को आरोपी लिपिक केके दुबे को निलंबित कर कौशांबी एआरटीओ कार्यालय से जोड़कर जांच शुरू की.

जांच में पता चला कि शिकायतकर्ता द्वारा उपलब्ध कराए गए ट्रकों की भार क्षमता मानक के अनुसार है। ऐसे में अपर परिवहन आयुक्त ने 7 जून को दिए गए निलंबन के आदेश को रद्द करते हुए लिपिक केके दुबे को प्रतापगढ़ कार्यालय में पूर्व की तरह सहयोग करने का निर्देश दिया है. साथ ही एआरटीओ को शिकायतकर्ता के खिलाफ सुसंगत कार्रवाई करने का निर्देश दिया गया है।