चीन ने ताइवानी जापानी इलाके में नैंसी पेलोसी के जाते ही बरसाई मिसाइलें

अमेरिकी प्रतिनिधि सभा की अध्यक्ष जैसी पेलोसी के ताइवान से वापस जाते ही बौखलाए चीन ने ताइवानी रिश्तों पर सीधे क्षेत्र के पास युद्धाभ्यास शुरू कर दिया। परहेज किया ह चीन की सेना ने ताइवान की छह तरफ नेशनल अली के से घेरकर 11 डोंगफेंग बैलिस्टिक जिन प्यो और संसद के मिसाइलें दागीं। इनमें से 5 मिसाइलें सदस्यों से मिली लेकिन जापान के विशेष आर्थिक क्षेत्र वाले समुद्री इलाके में गिरीं। इससे पूर्व ताइवानी मात्सु द्वीपों के पास चीन ने मिसाइलें दागी। ताइवान ने इसे भड़काने वाली कार्रवाई बताते हुए अपनी भौगोलिक संप्रभुता की रक्षा करने का संकल्प जताया। ताइवान ने कहा, व भड़काने वाली चीन ने छह जोन में सेना के सभी चाहता है लेकिन यदि पनी भौगोलिक अंगों का युद्धाभ्यास रविवार तक जारी रखने का इरादा जताया है। ताइवान के साथ विवाद में अब तक के सबसे व्यापक युद्धाभ्यास बीजिंग ने पूरी ताकत झोंक दी है। चीनी सेना की पूर्वी बुद्ध कमान के तहत अभ्यास में नौसेना, वायुसेना, रॉकेट फोर्स, रणनीतिक और लॉजिस्टिक बल के सैनिक शामिल थे। इस दौरान चीनी सेना ने संयुक्त नाकाबंदी, समुद्री व जमीनी लक्ष्य पर हमला व हवाई नियंत्रण अभियानों में सैन्य क्षमताओं का परीक्षण किया। ने का संकल्प जताया। ताइवान ने कहा, वह तनाव बढ़ाना नहीं न में सेना के सभी चाहता है लेकिन यदि बात हमारी सुरक्षा व रविवार तक जारी संप्रभुता पर आई तो हम पीछे नहीं हटेंगे।

पेलोसी ने नहीं की कोई टिप्पणी

सियोल नैंसी पेलोसी ने सियोल में दक्षिण कोरियाई नेताओं से मुलाकात की। लेकिन पेलोसी ने बीजिंग के साथ रिश्तों पर सीधे सार्वजनिक टिप्पणी से परहेज किया। वह दक्षिण कोरियाई नेशनल असेंबली के अध्यक्ष किम जिन प्यो और संसद के अन्य वरिष्ठ सदस्यों से मिलीं। लेकिन उन्होंने सीधे तौर पर अपनी ताइवान यात्रा या चीनी विरोध का कोई जिक्र नहीं किया।