मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने यूपी के डीजीपी मुकुल गोयल को पद से हटाया

डीजीपी मुकुल गोयल को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की नाराजगी भारी पड़ी है। शासकीय कार्यों की अवहेलना, विभागीय कार्यों में रुचि न लेने के आरोपों में उन्हें डीजीपी के पद से हटा दिया गया है। मुकुल गोयल को नागरिक सुरक्षा के डीजी के पद पर तैनाती दी गई है।

2014 में खत्म हो रहा था कार्यकाल

मुकुल गोयल का सेवाकाल फरवरी 2024 तक है वहीं शासन की इस कार्यवाही के पीछे हाल के दिनों की घटनाएं बड़ी वजह मानी जा रही है। शासन ने एडीजी कानून व्यवस्था प्रशांत कुमार को फिलहाल डीजीपी का अतिरिक्त कार्यभार सौंपा है। गोयल को पिछले साल 1 जुलाई को तत्कालीन डीजीपी हितेश चंद्र अवस्थी की सेवानिवृत्ति के बाद डीजीपी बनाया गया था। गोयल केंद्रीय प्रतिनियुक्ति से वापस लौटे थे। शुरू से ही उनका कार्यकाल विवादों से घिरा रहा। लखनऊ में एक इंस्पेक्टर को हटाए जाने को गोयल ने प्रतिष्ठा का सवाल बना लिया था। लेकिन वह इंस्पेक्टर को नहीं हटवा पाए थे। मामला मुख्यमंत्री तक पहुंचा था मुख्यमंत्री योगी ने इस पर नाराजगी जाहिर करते हुए वीडियो कांफ्रेंस तक में कहा था कि जिलों के थानेदारों की तैनाती के लिए मुख्यालय स्तर से दबाव न बनाया जाए। उसके बाद मुख्यमंत्री ने कई महत्वपूर्ण बैठकों में डीजीपी गोयल को नहीं बुलाया।