Agra News: सीसीटीवी फुटेज से की जा रही आरोपियों की पहचान, अधिशासी अधिकारी को बनाया गया था बंधक

क्षेत्राधिकारी फतेहाबाद सौरव सिंह ने बताया कि पुलिस और अधिशासी अधिकारी की तरफ से नगर पंचायत अध्यक्ष उनके पुत्र, भाई व अज्ञात लोगों के खिलाफ दर्ज कराए गए मुकदमे की जांच चल रही है।

आगरा की नगर पंचायत फतेहाबाद की अध्यक्ष पर अधिशासी अधिकारी ने बंधक बनाने का आरोप लगाया। इस मामले में मुकदमों में नामजद अध्यक्ष के भाई और पुत्र को पुलिस ने शनिवार को जेल भेज दिया। इस मामले में शामिल अन्य लोगों की पहचान अब सीसीटीवी फुटेज से की जा रही है।

ये है मामला 

नगर पंचायत फतेहाबाद की अध्यक्ष आशा देवी चक एवं अधिशासी अधिकारी डॉ. कल्पना वाजपेई के बीच शुक्रवार को पुराने बिलों को भुगतान को लेकर विवाद हो गया था। इस मामले में अधिशासी अधिकारी ने नगर पंचायत अध्यक्ष, उनके पुत्र, भाई और अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था। पुलिस ने भी अपनी ओर से नगर पंचायत अध्यक्ष समेत अन्य लोगों पर पुलिस पर हमला करने, अभद्रता, सरकारी कार्यों में बाधा समेत अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है।

इन्हें भेजा गया है जेल 

इस मामले में नगर पंचायत अध्यक्ष के पुत्र तरुण असोलिया एवं भाई मनीष चक को पुलिस गिरफ्तार कर जेल भेज चुकी है। मुकदमे में शामिल अज्ञात लोगों की तलाश के लिए सीसीटीवी फुटेज की मदद ली जा रही है।

ये बोले क्षेत्राधिकारी 

क्षेत्राधिकारी फतेहाबाद सौरव सिंह ने बताया कि पुलिस और अधिशासी अधिकारी की तरफ से नगर पंचायत अध्यक्ष उनके पुत्र, भाई व अज्ञात लोगों के खिलाफ दर्ज कराए गए मुकदमे की जांच चल रही है। अज्ञात आरोपियों की पहचान करने के लिए पंचायत कार्यालय एवं थाना परिसर में लगे सीसीटीवी के फुटेज जुटाए जा रहे हैं। इनसे आरोपियों की पहचान की जाएगी।