Agra News: बस चालक ने नंबर प्लेट में किया कमाल का खेल, पुलिस ने पकड़ा तो हुआ खुलासा

पुलिस ने साईं के तकिए पर क्षमता से अधिक यात्रियों को ले जा रही बस को पकड़ा तो पता चला कि चालक नंबर प्लेट बदलकर बस चला रहा था। उसके पास ड्राइविंग लाइसेंस भी नहीं था।

आगरा में ट्रेवल एजेंसी की बस का चालक नंबर छिपाकर चला रहा था। यात्री भी क्षमता से अधिक थे। ड्राइविंग लाइसेंस भी नहीं था। मामले में पुलिस ने धोखाधड़ी व अन्य धाराओं सहित मामला दर्ज कर लिया है।

 

मामले के मुताबिक 19 सितंबर की रात रकाबगंज थाने के एसआई हितेश कुमार गश्त पर थे, तभी राजस्थान नंबर की बस साईं के तकिए से नामनेर की ओर मुड़ गई. चालक लापरवाही व लापरवाही से बस चला रहा था। पुलिस टीम ने उसे एसआर अस्पताल के पास रोका। पुलिस ने देखा कि बस के आगे की नंबर प्लेट पर लोहे का सपाट पत्ता था। इस कारण नंबर प्लेट पर लिखे नंबरों की पहचान नहीं हो पा रही थी। बस में अशोक वीरेंद्र जनता अंग्रेजी में लिखा हुआ था।

जांच में पता चला कि कुछ दिन पहले यातायात निरीक्षक ने बालूगंज चौराहे पर बस को रोका था। चालान की चेतावनी दी। लेकिन, वीरेंद्र ट्रेवल्स के संचालक ने नियमों का उल्लंघन किया। बस में सवारियां क्षमता से अधिक थीं। चालक जगह-जगह यात्रियों को भर रहा था। चालक के पास ड्राइविंग लाइसेंस भी नहीं था। रात 9.30 बजे नो एंट्री पर बस को जगह-जगह रोका गया और यात्री उतर रहे थे, जिसके बाद बस को सीज कर लिया गया। एमवी एक्ट के तहत चालान

थाना प्रभारी निरीक्षक राकेश कुमार का कहना है कि मामले में धारा 144 के उल्लंघन, गलत तरीके से वाहन चलाने व धोखाधड़ी करने का मामला दर्ज किया गया है. इसमें भरतपुर के गोविंद सिंह और वीरेंद्र को नॉमिनेट किया गया है.