आगरा नगर निगम ने सार्वजनिक पार्किंग की नियमावली तैयार

आगरा में पार्किंग की समस्या से निजात दिलाने के लिए नगर निगम ने नियमावली तैयार कर ली है। अब निजी भूमि पर सार्वजनिक पार्किंग की सुविधा विकसित की जा सकेगी। नगर निगम की 21वीं कार्यकारिणी की बैठक में कई प्रस्तावों पर चर्चा हुई। जिसमें शहर में पार्किंग के गम्भीर मसले का हल ढूंढा गया। तय हुआ कि शहर में ट्रैफिक और पार्किंग को सुचारू रखने के लिए अब निजी भूमि पर सार्वजनिक पार्किंग विकसित की सुविधा दी जाए। इस प्रस्ताव पर चर्चा के बाद नियमावली तैयार की गई है। नियमावली के तहत एक निश्चित क्षेत्रफल की भूमि उपलब्ध होने पर भू स्वामी शपथ पत्र और एनओसी स्वीकृत करानी होगी। इसके बाद अपनी भूमि को सार्वजनिक पार्किंग के उपयोग में ले सकेगा। कार्यकारिणी की बैठक में मेयर नवीन जैन, नगर आयुक्त निखिल टीकाराम फुंडे, अपर नगर आयुक्त सुशीला अग्रवाल, सुरेंद्र कुमार यादव और विनोद कुमार गुप्ता, कर्मवीर सिंह, पार्षद नेहा गुप्ता, पार्षद मोहन शर्मा, पार्षद महेश सवेदी, पार्षद लक्ष्मी शर्मा आदि मौजूद रहे।

निजी भूमि पर पार्किंग विकसित करने के लिए भू-स्वामी को कई तरह की सुविधाएं देनी होंगी। पार्किंग में खड़े होने वाले सभी वाहनों से तय शुल्क ही वसूला जा सकेगा। पार्किंग स्थल पर भू-स्वामी को पानी, शौचालय, फर्स्ट एड इत्यादि जनहित की सुविधाएं उपलब्ध करानी होंगी। वाहनों के चोरी अथवा क्षतिग्रस्त होने पर उसकी क्षतिपूर्ति की जिम्मेदारी भू-स्वामी की ही होगी।

नगर निगम ने श्वान, बिल्ली, खरगोश समेत अन्य छोटे जानवर को पालने का शुल्क भी निर्धारित कर दिया है। भारतीय नस्ल के श्वान के लिए 100 रुपये, विदेशी नस्ल के श्वान के लिए 500 रुपये और अन्य छोटे पालतू जानवरों के लिए 100 रुपये लाइसेंस शुल्क रखा गया है। लाइसेंस का प्रतिवर्ष नवीनीकरण कराना होगा।