Agra Crime: नवरात्र में माता की मूर्ति रखने पर हंगामा, पुलिस पहुंचने पर टला दो समुदायाें के बीच टकराव

आगरा अपराध घटना आगरा के यमुनापार इलाके में। रामबाग के सीतानगर में पांच साल से देवी की मूर्ति रखी गई है। रविवार देर रात अल्पसंख्यक समुदाय के युवाओं ने विरोध किया तो हिंदूवादी संगठन के कार्यकर्ता पहुंचे। पुलिस ने बीच-बचाव कर स्थिति को संभाला।

नवरात्र के दौरान मां की मूर्ति रखने को लेकर आगरा में दो समुदायों के बीच विवाद हो गया। देर रात नवरात्र के प्रारंभ में एत्माद्दौला क्षेत्र के सीतानगर में मां की मूर्ति रखी जा रही थी. वहीं, अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों ने मूर्ति स्थापना का विरोध किया। जिससे हिंदूवादी संगठन मौके पर पहुंच गए। करीब आधे घंटे तक चले हंगामे के बाद पुलिस मौके पर पहुंची और मूर्ति को रखवाया।

अल्पसंख्यक समुदाय के युवकाें ने किया विराेध

रामबाग सीतानगर में करीब पांच साल से लगातार नवरात्रि में मां की मूर्ति रखी जा रही है। देर रात बस्ती के लोग हर साल की तरह मां की मूर्ति रख रहे थे। वहीं, पड़ोस में रहने वाले अल्पसंख्यक समुदाय के कुछ युवक मौके पर पहुंच गए. उन्होंने मौके पर पहुंचकर मूर्ति रखने का विरोध किया। बस्ती के लोगों ने उसे काफी समझाने की कोशिश की लेकिन वह नहीं माना। जिसकी जानकारी हिंदुत्व संगठन को हुई। हिंदूवादी संगठन के कई कार्यकर्ता मौके पर पहुंचे। मौके पर पहुंचे कार्यकर्ताओं ने जमकर नारेबाजी की और हंगामा किया.

पुलिस के हस्तक्षेप से बनी सहमति

पुलिस को मूर्ति रखने को लेकर हुए हंगामे की सूचना मिली थी। जिसके बाद पुलिस भी मौके पर पहुंच गई। करीब आधे घंटे तक पुलिस ने दोनों पक्षों को समझाया। साथ ही करीब 30 मिनट तक चले इस विवाद के बाद दोनों समुदाय की सहमति से मां की मूर्ति को रख दिया गया. इस अवसर पर विश्व हिंदू परिषद बजरंग दल विभाग सह धर्म प्रसार प्रमुख राहुल गौतम, विभाग सह संयोजक बजरंग दल अनुज, रामबाग जिला वरिष्ठ उपाध्यक्ष विहिप श्याम किशोर, जिला धर्म प्रसार प्रमुख अनिल, जिला गौ रक्षा प्रमुख पिंटू, राजपाल, पूर्व जिला सह -मंत्री राजीव पटेल, समरसता के पूर्व प्रमुख गौरव, सूरज, छोटू, योगेश और विहिप बजरंग दल के कार्यकर्ता मौजूद थे.