Agra: ताजनगरी में बढ़ रहा डेंगू का प्रकोप, एक मरीज और मिला, अब 18 हो गई संख्या

आगरा में डेंगू के मरीज बढ़ रहे हैं। शुक्रवार को रामबाग के 21 वर्ष के युवक में डेंगू की पुष्टि हुई। उसने एसएन मेडिकल कॉलेज में जांच कराई थी। जिले में डेंगू मरीजों की संख्या 18 हो गई है।

आगरा जिले में शुक्रवार को डेंगू का एक और मरीज मिला। एसएन मेडिकल कॉलेज में की गई जांच में पुष्टि हुई। अब जिले में डेंगू मरीजों की संख्या 18 हो गई है। वहीं, शुक्रवार को निजी लैब में किए गए रैपिड टेस्ट के आधार पर पांच डेंगू के संदिग्ध मरीजों के घरों पर स्वास्थ्य विभाग की टीम पहुंची। एंटी लार्वा के छिड़काव के साथ अन्य गतिविधियां की गईं।

जिला मलेरिया अधिकारी डॉ. नीरज कुमार ने बताया कि रामबाग निवासी 21 वर्षीय युवक में शुक्रवार को डेंगू मिला। हालांकि उसकी स्थिति ठीक है, वह घर पर है। अस्पताल में भर्ती करने की स्थिति नहीं है। मरीज के घर व आसपास एंटी लार्वा का छिड़काव कराया जाएगा।

शुक्रवार को नॉर्थ ईदगाह कॉलोनी और नगला अर्जुन, खंदौली में भी स्वास्थ्य विभाग की टीम पहुंची। मच्छर का स्रोत तलाशा गया। एंटी लार्वा का छिड़काव किया गया। लोगों को मच्छर के काटने से खुद को बचाने के लिए जागरूक किया गया। बृहस्पतिवार को दोनों जगहों पर डेंगू के मरीज मिले थे।

सभी निजी अस्पताल नहीं दे रहे डेंगू की जांच रिपोर्ट

जिले में करीब 12 निजी लैब में डेंगू की जांच (रैपिड टेस्ट) की जा रही है। इसमें से सभी अस्पतालों की ओर से डेंगू की जांच रिपोर्ट स्वास्थ्य विभाग को नहीं उपलब्ध कराई जा रही है। चार से पांच की ही रिपोर्ट मिल रही है। जबकि विभाग ने सभी लैब को अनिवार्य रूप से डेंगू की रिपोर्ट भेजने के निर्देश दिए हैं। शासन स्तर से भी इस संबंध में दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं। जिला मलेरिया अधिकारी डॉ. नीरज कुमार ने बताया कि कम निजी लैब रिपोर्ट दे रहे हैं। सभी से नियमित रूप से रिपोर्ट मंगाई जाएगी।

दो निजी लैब से रैपिड टेस्ट का नमूना लिया

जिला मलेरिया अधिकारी ने बताया कि शुक्रवार को दो निजी लैब से डेंगू के रैपिड टेस्ट के दो नमूने लिए गए। एसएन मेडिकल कॉलेज में दोनों नमूनों की एलाइजा जांच कराई जाएगी। उन्होंने बताया कि साइंटिफिक लैब से चार नमूने मांगे गए थे, जो कि बृहस्पतिवार को लिए गए थे। इसमें एक नमूना ही दिया गया। बाकी तीन के बारे में बताया गया कि वह खराब हो गए। इस पर लैब से स्पष्टीकरण मांगा जा रहा है। एक नमूना एसआरएल लैब प्रतापपुरा से लिया गया।