विजय दशमी: आगरा के रामलीला मैदान में फूंका जाएगा 110 फुट का ‘रावण’, मुस्लिम कारीगरों ने बनाया है पुतला

दशहरा… यानि बुराई पर अच्छाई की जीत दर्शाने वाला पर्व। मंगलवार को रामलीला मैदान में मेघनाद के वध की लीला के बाद उसके पुतले का दहन किया गया। बुधवार को दशानन के संहार के साथ ही उसका पुतला भी फूंका जाएगा।

विजय दशमी पर आगरा के रामलीला मैदान में चल रही रामलीला का रावण दहन के साथ समापन हो जाएगा। इस बार रामलीला मैदान में 110 फुट का पुतला फूंका जाएगा। इसकी तैयारी पूरी हो चुकी हैं। रावण का पुतला मुस्लिम कारीगरों ने बनाया है। बुधवार को रामलीला मंचन के बाद पुतला जलने से पहले रावण अपनी शक्ति का प्रदर्शन करेगा।

श्रीराम लीला के प्रचारमंत्री प्रकाश चंद्र अग्रवाल ने बताया कि इस बार लेजर लाइट से रावण का पुतला फूंका जाएगा। रामलीला मैदान में भीषण युद्ध के बाद रामलीला मैदान में आकर्षक आतिशबाजी होगी। जिसमें ग्वालियर के असलम और आगरा की राशि पुरी के बीच मुकाबला होगा।

रात 11.30 से 12 बजे के बीच होगा पुतला दहन 

इस बार दर्शकों को इलेक्ट्रॉनिक आतिशबाजी देखनों को मिलेगी। आतिशबाजी के माध्यम से नेत्र दान महादान, रक्तदान कीजिए जिंदगी बचाइए का संदेश दिया जाएगा। प्रचारक मंत्री ने बताया कि रामलीला के मंचन के बाद रात 11:30 व 12 बजे के बीच रावण के पुतले का दहन किया जाएगा।

पुतला बनाने वाले सभी कारीगर मुस्लिम

रावण का पुतला तैयार करने वाले कारीगर मुस्लिम समुदाय के लोग हैं। उनका कहना है कि कर्म ही सबसे बड़ा धर्म है। एक कारीगर आमिर ने बताया कि वह कई पीड़ियों से रावण का पुतला बनाते आ रहे हैं। करीब 10 कारीगरों ने पुतला तैयार किया है। सभी लोग उनके परिवार के ही सदस्य हैं। इसमें जुबेर, फरखान, ताहिर आदि शामिल हैं।